Dwarkadheeshvastu.com
                   
बहुमंजिला भवन में बॉलकनी के प्रभाव
छत और फर्श दोनों में समान रूप से कोई भी भाग बढ़ने पर प्रभाव पूर्ण रूप से लागू होते हैं। यदि कोई एक भाग बढ ता है तो उसके आधे प्रभाव ही लागू होंगे।
दिशा प्लॉट
पूर्व फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से ईस्ट-साउथईस्ट भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से ईस्ट-साउथईस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव लागू होंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से ईस्ट-नार्थईस्ट बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से ईस्ट-साउथईस्ट भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढ ा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से ईस्ट-नार्थईस्ट बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से ईस्ट-साउथईस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत चौरस है इसलिए ईस्ट-साउथईस्ट बढने के ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।
उत्तर फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से नार्थ-नार्थईस्ट भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है। इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से नार्थ-नार्थईस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से नार्थ-नार्थवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव लागू होंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से नार्थ-नार्थईस्ट भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से नार्थ-नार्थवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव लागू होंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से नार्थ-नार्थईस्ट भाग बढ गया है, किन्तु छत चौरस है। इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।
दक्षिण फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से साउथ-साउथवेस्ट भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है। इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से साउथ-साउथवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से साउथ-साउथईस्ट भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव लागू ही होंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से साउथ-साउथवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से साउथ-साउथईस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव लागू ही होंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से साउथ-साउथवेस्ट भाग बढ गया है, किन्तु छत चौरस है। इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।
पश्चिम फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से वेस्ट-नार्थवेस्ट भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है। इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से वेस्ट-नार्थवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से वेस्ट-साउथवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव लागू ही होंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से वेस्ट-नार्थवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से वेस्ट-साउथवेस्ट भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव लागू ही होंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से वेस्ट-नार्थवेस्ट भाग बढ गया है, किन्तु छत चौरस है। इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।
विदिशा प्लॉट
नार्थ-ईस्ट फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से पूर्व भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से पूर्व भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से उत्तर भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से पूर्व भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से उत्तर भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से पूर्व भाग बढ गया है किन्तु छत चौरस है इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।
साउथ-ईस्ट फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से दक्षिण भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से दक्षिण भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से पूर्व भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से दक्षिण भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से पूर्व भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से दक्षिण भाग बढ गया है किन्तु छत चौरस है इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।
साउथ-वेस्ट फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से पश्चिम भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से पश्चिम भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से दक्षिण भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से पश्चिम भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से दक्षिण भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से पश्चिम भाग बढ गया है किन्तु छत चौरस है इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।
नार्थ-वेस्ट फेसिंग भवन
ग्राउन्ड फ्लोर : छत में बॉलकनी के निर्माण से उत्तर भाग बढ़ गया है किन्तु फर्श चौरस है इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।

पहली मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से उत्तर भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढ ा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे। छत में बॉलकनी के निर्माण से पश्चिम भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढ ा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

दूसरी मंजिल : छत में बॉलकनी के निर्माण से उत्तर भाग बढ गया है किन्तु फर्श में यह भाग बढ ा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे। फर्श में बॉलकनी के निर्माण से पश्चिम भाग बढ गया है किन्तु छत में यह भाग बढ ा हुआ नहीं है, इससे ५० प्रतिशत अशुभ प्रभाव ही लागू होंगे।

तीसरी मंजिल : फर्श में बॉलकनी के निर्माण से उत्तर भाग बढ गया है किन्तु छत चौरस है इससे ५० प्रतिशत शुभ प्रभाव ही मिलेंगे।