Dwarkadheeshvastu.com
                   
भवन/बेडरूम के आकार का परिवार के सदस्यों पर प्रभाव
उत्तर, दक्षिण , साउथ-ईस्ट व नार्थ-वेस्ट भाग महिलाओं का होता है।
पूर्व , पश्चिम , नार्थ-ईस्ट व साउथ-वेस्ट भाग पुरूषों का होता है।


भवन/बेडरूम की लम्बाई उत्तर व दक्षिण में अधिक है। इसलिए इस भवन/बेडरूम में महिलाओं का प्रभाव अधिक होगा।



भवन/बेडरूम की लम्बाई साउथ-ईस्ट व नार्थ-वेस्ट में अधिक है। इसलिए इस भवन/बेडरूम में महिलाओं का प्रभाव अधिक होगा।

 


इन भवन/बेडरूम में महिलाओं के दोनो भाग कट गए हैं। इसलिए इस तरह के भवन/बेडरूम में महिलाएँ नहीं रहेंगी व मृत्यु भी संभव है। कटे हुए भाग में मुख्य द्वार होने पर यदि पूरे भवन में एक ही परिवार निवास करता है तो कटे हुए भाग के प्रभाव आंशिक रह जाएँगे।


भवन/बेडरूम का आकार नीचे दिखाए गए चित्रों के अनुसार होने पर इस भूमि/भवन/बेडरूम में महिलाओं का प्रभाव अधिक रहेगा। कटे हुए भाग मे मुख्य द्वार होने पर यदि पूरे भवन में एक ही परिवार निवास करता है तो कटे हुए भाग के प्रभाव आंशिक रह जाएँगे।



भवन/बेडरूम की लम्बाई पूर्व व पश्चिम में अधिक है। इसलिए इस भवन/बेडरूम में पुरूषों का प्रभाव अधिक होगा।



भवन/बेडरूम की लम्बाई नार्थ-ईस्ट व साउथ-वेस्ट में अधिक है। इसलिए इस भवन/बेडरूम में पुरूषों का प्रभाव अधिक होगा।

 


इन भवन/बेडरूम में पुरूषों के दोनो भाग कट गए हैं। इसलिए इस तरह के भवन/बेडरूम में पुरूष नहीं रहेंगे व मृत्यु भी संभव है। कटे हुए भाग में मुख्य द्वार होने पर यदि पूरे भवन में एक ही परिवार निवास करता है तो कटे हुए भाग के प्रभाव आंशिक रह जाएँगे।


भवन/बेडरूम का आकार नीचे दिखाए गए चित्रों के अनुसार होने पर भवन/बेडरूम में पुरूषों का प्रभाव अधिक रहेगा। कटे हुए भाग में मुख्य द्वार होने पर पूरे भवन में यदि एक ही परिवार निवास करता है तो कटे हुए भाग के प्रभाव आंशिक रह जाएँगे।