Dwarkadheeshvastu.com
                   
भवन/बेडरूम के कोने में निर्माण/गढ्‌ढे के प्रभाव
निर्माण के प्रभाव
दिशा प्लॉट
नार्थ-वेस्ट कोने में निर्माण होने से निर्माण का वजन उत्तर व पश्चिम दोनों दीवारों पर आएगा। किन्तु पश्चिम की दीवार पर वजन होना वास्तु दोष नहीं है। इसलिए तीसरी व सातवीं संतान बेटा होने पर उसे कम समस्याएँ रहेंगी। किन्तु उत्तर की दीवार पर वजन होने से महिलाएँ बीमार, कर्जे, झगड़े, तीसरी व सातवीं संतान बेटी होने पर उसे अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी।




साउथ-वेस्ट कोने में निर्माण होने से निर्माण का वजन दक्षिण व पश्चिम दोनों दीवारों पर आएगा। दक्षिण व पश्चिम की दीवार पर वजन होना वास्तु दोष नहीं है। किन्तु साउथ-वेस्ट कोने में निर्माण में होने से घर का मुखिया, पहली व चौथी संतान घर से बाहर रहेंगे।




नार्थ-ईस्ट कोने में निर्माण होने से निर्माण का वजन उत्तर व पूर्व दोनों दीवारों पर आएगा। इससे पहली व पाँचवीं संतान बेटा या बेटी कोई भी हो दोनों को अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी।



साउथ-ईस्ट कोने में निर्माण होने से निर्माण का वजन दक्षिण व पूर्व दोनों दीवारों पर आएगा। किन्तु दक्षिण की दीवार पर वजन होना वास्तु दोष नहीं है। इसलिए दूसरी व छठी संतान बेटी होने पर उसे कम समस्याएँ रहेंगी। किन्तु पूर्व की दीवार पर वजन होने से पुरूष बीमार, भय, प्रशासनिक समस्याएँ, दूसरी व छठी संतान बेटा होने पर उसे अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी।
विदिशा प्लॉट
उत्तर कोने में निर्माण होने से वजन नार्थ-ईस्ट व नार्थ-वेस्ट दोनों दीवारों पर आएगा। इससे महिलाओं को वी०पी० इत्यादि बीमारियाँ, मान-सम्मान में कमी, स्वभाव चिड चिड ा होगा। पहली, तीसरी, पाँचवीं व सातवीं संतान बेटी होने पर उसे अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी और बेटा होने पर आंशिक रूप से परेशान रहेगा।








पश्चिम कोने में निर्माण होने से वजन नार्थ-वेस्ट व साउथ-वेस्ट दोनों दीवारों पर आएगा। वेस्ट-नार्थवेस्ट भाग में वजन होने से पुरूष घर से बाहर रहेंगे व घर में मानसिक अशान्ति रहेगी। 
         वेस्ट-साउथवेस्ट में वजन होना वास्तु दोष नहीं है।




पूर्व कोने में निर्माण होने से वजन नार्थ-ईस्ट व साउथ-ईस्ट दोनों दीवारों पर आएगा। इससे पुरूषों को वी०पी० इत्यादि बीमारियाँ, भय, मान-सम्मान में कमी, प्रशासनिक समस्याएँ, झगड़े, पहली, दूसरी, पाँचवीं व छठी संतान बेटा होने पर उसे अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी और बेटी होने पर आंशिक रूप से परेशान रहेगी।





दक्षिण कोने में निर्माण होने से वजन साउथ-ईस्ट व साउथ-वेस्ट दोनों दीवारों पर आएगा। साउथ-साउथईस्ट भाग में वजन होने से दूसरी व छठी संतान बेटी होने पर उसे अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी और बेटा होने पर आंशिक रूप से परेशान रहेगा।
           साउथ-साउथवेस्ट की दीवार पर वजन वास्तु दोष नहीं है।
गढ़्‌ढे के प्रभाव
दिशा प्लॉट
नार्थ-वेस्ट कोने में गढ्‌ढा/तल नीचा होने पर उत्तर की तरफ यह शुभ है इसलिए तीसरी व सातवीं संतान बेटी होने पर उसे कम समस्याएँ रहेंगी। किन्तु पश्चिम की तरफ अशुभ होने से तीसरी व सातवीं संतान बेटा होने पर उसे अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी।







साउथ-वेस्ट कोने में गढ्‌ढा/तल नीचा होना अशुभ है। इससे घर के मुखिया को बीमारी, बुरी आदतें, जेल जाना, पहली व चौथी संतान बीमार, अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी।




नार्थ-ईस्ट कोने में गढ़्‌ढा/तल नीचा होना शुभ है। इससे पूरा परिवार सुखी और स्वस्थ रहेगा, निवासी उच्च पद पर कार्यरत होंगे व पहली और पाँचवीं संतान को विशेष लाभ मिलेगा।





साउथ-ईस्ट कोने में गढ़्‌ढा/तल नीचा होने पर पूर्व की तरफ यह शुभ है इसलिए दूसरी व छठी संतान बेटा होने पर उसे कम समस्याएँ रहेंगी। किन्तु दक्षिण की तरफ अशुभ होने से महिलाएँ बीमार, कर्जे, झगडे, दूसरी व छठी संतान बेटी होने पर उसे अधिक समस्याएँ व विवाह से परेशानी रहेगी।
विदिशा प्लॉट

उत्तर कोने में गढ्‌ढा/तल नीचा होना शुभ है। इससे महिलाएँ स्वस्थ व सुखी रहेंगी और धन की प्राप्ति होगी।







पश्चिम कोने में गढ्‌ढा/तल नीचा होने पर पुरूषों को वी०पी० इत्यादि की बीमारी, बुरी आदतें, जेल जाना, एक्सीडेंट व असमय मृत्यु भी संभव है।


पूर्व कोने में गढ़्‌ढा/तल नीचा होना शुभ है। इससे पुरूष स्वस्थ व सुखी रहेंगे, मान-सम्मान बढेगा व उच्च पद पर कार्यरत होंगे। 





दक्षिण कोने में गढ्‌ढा/तल नीचा होने पर महिलाओं को वी०पी० इत्यादि की बीमारी, मान-सम्मान में कमी, स्वभाव चिडचिडा व मानसिक अशान्ति रहेगी।