हिलते दाँतों के लिए घरेलु आयुर्वेदिक उपाय
Ayurvedic tretment for moving teeth

यह समस्या दांतों को बहुत ज्यादा रगड़ने, गम क्लीनिंग, उम्र बढ़ने, मौखिक स्वच्छता की कमी, मसूड़ों के जीवाणु संक्रमण के कारण हो सकती है। अगर आपके दांतों में भी भोजन के दौरान दर्द और छूने पर ऐसा महसूस होता है कि दांत हिल रहा है तो समझ लीजिए कि आपको पैरीयोडोंटम समस्या हो गई है। लेकिन घबराएं नहीं क्योंकि कुछ घरेलू उपायों को अपनाकर आसान से इसका उपचार हो सकता है।

घरेलू उपाय

  • काली मिर्च और हल्दी का जादू : इन दोनों मसालों के मिश्रण से मसूड़ों को मजबूत बनाया जाता है। समस्या होने पर काली मिर्च और हल्दी की जड़ को पीसकर, उसका गाढ़ा सा पेस्ट बनाना लें। इस पेस्ट को हिलते दांत वाली जगह पर 30 मिनट के लिए लगाकर छोड़ दें। या फिर दो से तीन मिनट अपने दांतों में इस पेस्ट से मसाज करें। इस उपाय से दांतों के हिलने के साथ-साथ दांतों का दर्द भी दूर हो जाएगा। समस्या दूर होने तक इस उपाय को नियमित रूप से करें।
  • पुदीने का तेल : पुदीने के तेल में दांतों की समस्याओं को दूर करने वाले एंटीबैक्टीरियल और एंटीमाइक्रोबैक्टीरियल गुण होते हैं। यह दांतों के हिलने की समस्या को भी दूर करने में आपकी मदद करता है। तेल को उंगली में लेकर हिलते दांत पर अच्छे से लगाकर मसाज करें। इसके अलावा राहत पाने के लिए तेल को पानी में मिलाकर इसे कुल्ला करने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • सरसों का तेल और नमक : प्राचीन काल से ही दांतों को जड़ से मजबूत करने के लिए सरसों के तेल में नमक मिलाकर प्रयोग किया जाता है। नियमित रूप से सुबह उठकर नमक और सरसों का तेल मिलाकर इससे दांत साफ करें और दर्द वाली जगह पर इस पेस्ट को लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें। इस उपाय से आपको जल्द ही आराम मिलने लगेगा।
  • आंवला : आंवला अपने कई लाभकारी गुणों के लिए जाना जाता है। विशेषकर इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी की मौजूदगी दांतो की पकड़ को मजबूत करती है। साथ ही यह संयोजी ऊतक को ठीक होने में मदद करता है। हिलते दांत में आवंला जूस काफी आराम देता है। आप चाहें तो आंवला रस से कुल्ला कर लें या इसे पी लें।
  • लौंग के तेल के प्रयोग : लौंग का तेल मसूड़ों की सूजन और दांत दर्द को नियंत्रित करने का बहुत ही अच्छा प्राकृतिक उपचार है। लौंग के तेल का उपयोग पुदीना तेल के समान होता है। सूजन को नियंत्रित करने और राहत पाने के लिए इसका इस्तेमाल प्रभावित क्षेत्र पर मसाज करने के लिए किया जाता है। अगर दांत ज्यादा हिलते हैं तो लौंग तेल को हिलते दांत पर लगाएं और मसाज करें। या रात को लगाकर छोड़ दें। इससे काफी राहत मिलती है।
  • अजवायन की पत्तियों का तेल : आजवाइन की पत्ती का तेल, हिलते दांत में काफी फायदेमंद होता है। इसे दांतों पर लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें। इससे दांतों को गर्मी मिलती है और हिलते दांत में राहत हो जाती है। इसके अलावा सूजन और दर्दनाक मसूड़ों के लिए आप अजवायन की पत्तियों का सहारा ले सकते हैं। ये सूजन को कम करने में मदद कर आपको राहत प्रदान करता है।
  • नमक का प्रयोग करें : नमक मौखिक स्वास्थ्य से लिए बहुत ही लाभकारी होता है। इसमें मौजूद सौम्य एंटीसेप्टिक गुणों के कारण यह मुंह में होने वाले संक्रमण से राहत देने में मदद करता है। समस्या होने पर एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक डालकर, इस पानी से मुंह में कुल्ला करें। या सूजन को कम करने के लिए गम पर मालिश करें। इससे दांतों के सारे जर्म मर जाएंगे और आपका मुंह एकदम साफ हो जाएगा।


OFFERS

Durga Mata Sangrah

Download Pendrive

Ram Ji Sangrah

Download Pendrive

Hanuman Ji Sangrah

Download Pendrive

Krishna Ji Sangrah

Download Pendrive

Shiv Ji Sangrah

Download Pendrive

SINGERS

All Rights Reserved © 2019 www.dwarkadheeshvastu.com