कर्नाटक/ Karnatak

कर्नाटक को भारत के राज्यों में पर्यटन के लिए चौथे सबसे लोकप्रिय गंतव्य के रूप में दर्जा दिया गया है। भारत में संरक्षित स्मारकों की सर्वाधिक संख्या में, 507 के साथ यह दूसरे स्थान पर है।

कदंबा, पश्चिमी गंगा, चालुक्य, राष्ट्रकूट, होयसला और विजयनगर जैसे कन्नड़ राजवंशों ने कर्नाटक विशेष रूप से उत्तर कर्नाटक पर शासन किया था। उन्होंने बौद्ध धर्म, जैन धर्म, शैव धर्म के कई महान स्मारकों का निर्माण किया। ये स्मारक बादामी, आइहोल, पट्टडकल, हम्पी, लक्ष्मेश्वर, सुडी, हुली, महादेव मंदिर (इटगी), डंबल, लक्कुंडी, गदग, हंगल, हलसी, गलगनाथ, चौड्डयनपुरा, बनवासी, बेलूर, हलेबीडु, श्रावणबेलगोला, सन्नाती तथा कई और जगहों में अभी भी मौजूद हैं। उल्लेखनीय इस्लामी स्मारक बीजापुर, बीदर, गुलबर्ग, रायचूर और राज्य के अन्य भागों में मौजूद हैं। बीजापुर में गोल गुंबज़, बाइज़ंटाइन हेगिया सोफ़िया के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा पूर्वाधुनिक गुंबद है। कर्नाटक के दो विश्व विरासत स्थल, हम्पी और पट्टडकल हैं, जो दोनों ही उत्तर कर्नाटक में हैं।

कर्नाटक अपने जलप्रपातों के लिए प्रसिद्ध है। शिमोगा जिले में जोग जलप्रपात एशिया के सबसे ऊंचे जलप्रपातों में से एक है। इस राज्य में 21 वन्यजीव अभयारण्य और पांच राष्ट्रीय उद्यान हैं और यह पक्षियों की 500 से ज्यादा प्रजातियों के लिए घर है। कर्नाटक में कारवार, गोकर्ण, मुरुडेश्वर, सूरतकल में कई समुद्र तट है। कर्नाटक चट्टान पर्वतारोहियों का स्वर्ग है। उत्तर कन्नड़ में याना, चित्रदुर्ग में क़िला, बेंगलूर जिले के समीप रामनगर, तुमकुर जिले में शिवगंगे और कोलार जिले में टेकल चट्टान पर्वतारोहियों का स्वर्ग है।


OFFERS

Durga Mata Sangrah

Download Pendrive

Ram Ji Sangrah

Download Pendrive

Hanuman Ji Sangrah

Download Pendrive

Krishna Ji Sangrah

Download Pendrive

Shiv Ji Sangrah

Download Pendrive

SINGERS