उड़ीसा / Orisa

उड़ीसा, अध्यात्म, धर्म, संस्कृति, कला और प्राकृतिक सौंदर्य में रुचि रखने वाले लोगों के लिए प्राचीन समय से ही एक पसंदीदा स्थल रहा है। प्राचीन और मध्यकालीन स्थापत्य कला, प्राचीन समुद्र तट, शास्त्रीय और जातीय नृत्य रूप और त्यौहारों की विविधता भी है। उड़ीसा ने बौद्ध धर्म को जीवित रखा है। चट्टानी-शिलालेख, जिन्होंने समय को चुनौती दी है, नदी दया के किनारों पर विशाल तथा प्रभावपूर्ण रूप में मौजूद हैं। बौद्ध धर्म की मशाल आज भी नदी बिरुपा के किनारे, उदयगिरि और खंडगिरि गुफाओं के उत्कृष्ट त्रिकोण में प्रज्वलित है। गौरवशाली अतीत के बहुमूल्य खंड, स्तूप, चट्टानी गुफाओं, चट्टानी शिलालेखों, खुदाई में मिले मठों, विहारों, चैत्यों और ताबूत में पवित्र अवशेष और अशोक के शिलालेखों में सजीव हैं। उड़ीसा अपने सुसंरक्षित हिंदू मंदिरों, विशेष रूप से कोणार्क सूर्य मंदिर के लिए भी प्रसिद्ध है।[12]

उड़ीसा विभिन्न आदिवासी समुदायों के लिए घर है, जिन्होंने राज्य के बहुसांस्कृतिक और बहुभाषी स्वरूप में विशिष्ट रूप से योगदान दिया है। उनके हस्तशिल्प, विभिन्न नृत्य रूप, वन उत्पाद और चिकित्सा पद्धतियों के साथ मिश्रित उनकी अद्वितीय जीवन शैली ने विश्वव्यापी ध्यान आकर्षित किया है।


OFFERS


SINGERS